सोना मोहापात्रा का साथ देते हुए अनु मलिक पर भड़कीं तनुश्री दत्ता, इंडियन आइडल की जज सिंगर नेहा कक्कड़ के लिए भी दिया यह बड़ा बयान

By  
on  

मीटू मूवमेंट की शुरुआत करने वालीं तनुश्री दत्ता एक बार फिर सुर्ख़ियों की तरफ रुख कर रहहि हैं और इस बार वो सिंगर सोना मोहापात्रा का साथ देते हुए आगे आईं हैं जिन्होंने सिंगर अनु मलिक को शो 'इंडियन आइडल' में जज की भूमिका से हटाने की मुहीम शुरू की थी क्यूंकि उनपर कई मीटू केस लगे थे. जब मेकर्स ने अनु मलिक को 10वें सीजन से निकाल कर अब 11वें सीजन में फिर से ले लिया तो सोना मोहापात्रा का गुस्सा सांतवें आसमान पर पहुंच गया. हाल ही में अनु मलिक ने अपने सोशल अकाउंट पर ओपन लेटर साझा किया था जिसमें उन्होंने इस मूवमेंट के चलते आपबीती शेयर की थी और कहा था इसकी वजह से उनका नाम बहुत खराब हुआ है और वो ख़ुद दो बेटियों के पिता है और इस तरह लड़कियों के बारे में वो सोच भी नहीं सकते.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by ANU MALIK (@anumalikmusic) on

अनु मलिक के इस लेटर के बाद सोना ने भी उन्हें जवाब में लम्बा चौड़ा बयान दिया था और अब तनुश्री दत्ता सोना का साथ देते हुए आगे आई है और उन्होंने एक स्टेटमेंट जारी किया है जिसमें वो शो 'इंडियन आइडल 11' की जज नेहा कक्कड़ पर भी सवाल उठा रही हैं. आपको याद होगा कि इस शो में नेहा का एक फैन आया था जिसने जबरन नेहा को किस करने की कोशिश की थी. इस पर तनुश्री ने कहा कि एक लड़की होते हुए नेहा इस तरह एक फैन पर बिना किसी रिपोर्ट दर्ज करवाए कैसे रह सकती हैं? और तो और उन्होंने इस फुटेज का फायदा शो को टीआरपी बढ़ाने के लिए दिया? 

यहां पढ़िए तनुश्री का पूरा स्टेटमेंट-

"मैं खड़ा होना चाहती हूं, अपने हाथों को ऊपर उठाना चाहती हूं और सोना मोहपात्रा के साथ-साथ इंडियन आइडल में अनु मलिकों की बहाली के लिए अच्छी लड़ाई लड़ना चाहती हूं. मुझे इस नतीजे में सबसे ज्यादा झटका लगा कि सोनी टीवी जो एक परिवार के अनुकूल चैनल है ऐसे व्यक्ति को एक न्यायाधीश के रूप में रहने की अनुमति दे रहा है. जिसपर कई शिक्षित, प्रतिभाशाली, उच्च निपुण, बुद्धिमान, उच्च प्रोफ़ाइल महिलाएं उनके खिलाफ उत्पीड़न की अपनी कहानियों के साथ आगे आई हैं. मेरा मतलब है कि टीआरपी अधिक महत्वपूर्ण है कि हमारे मानवीय मूल्य ?? फिर हमारे मूल्य क्या हैं ?? और क्या दुष्कर्म करने वालों को अपने कर्मों के लिए जवाबदेह नहीं ठहराया जाना चाहिए ?? और उन सभी आरोपों के सामने आने के बाद उसे फिर से क्यों बहाल किया जाए ?? यह गंभीरता से चैनल टीम के साथ-साथ रचनाकारों और शो के प्रबंधन की मानसिकता पर सवाल उठाता है. यह उन सह-न्यायाधीशों की मानसिकता पर भी गंभीर संदेह रखता है जो ऐसे इन्सान के साथ शो का हिस्सा बनने के लिए सहमत हुए, विशेष रूप से नेहा कक्कड़ जो ख़ुद एक सफल महिला के गायक हैं. सोना, नेहा भसीन और अलीशा चिनाय की तरह. अजीब बात है जब जब एक प्रशंसक जबरन नेहा को सरे आम चूमने की कोशिश करता है, और नेहा ने लाखों लोगों के सामने अपमानित करने वाले घृणित व्यक्ति पर आरोप नहीं लगाने का फैसला करती हैं. एक महिला हस्ती को टीवी पर इस तरह से मोलेस्मट होते देखना बहुत खौफनाक और घिनौना था और सोनी टीवी पर शो को प्रमोट करने के लिए उस क्लिप का इस्तेमाल करके नई पीढ़ी के सामने क्या उदाहरण रखा जा रहा है! यह बेहद शर्मनाक है!

इसके अलावा शो के जज के तौर पर बोल्ड और गतिशील महिलाओं को क्मयूं नहीं रखा जाता? जैसे सोना महापात्रा जो  मानसिक शांति और स्वास्थ्य खोने के बावजूद इस तरह कीअच्छी लड़ाई लड़ती हैं ? इस तरह के लोगों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए, क्योंकि उनकी वजह से दुनिया एक बेहतर जगह बन रही है. #ReplyAnuMalikWithSoanMohapatra"

 

(Source: Peepingmoon, Instagram)

Read More
Tags
Loading...

Recommended